Followers

Wednesday, September 7, 2011

Pahali Mulakat पहली मुलाक़ात



पहली मुलाक़ात की वो घडी बड़ी अजीब थी 

संध्या की बेला थी, कुछ महफिले भी तंग थी
छोटे से घर में दो अंजानो की पहली मुलाक़ात थी
चांदनी को आगोश में लिए रात भी रोशन थी
सहमे थे दोनों , चेहरे पर सहमी हुई हल्की मुस्कान थी
कुछ सवाल थे , कुछ जवाब थे
पहचाने से सवाल थे , अनजाने से जवाब थे
 कुछ बाते भूल गए , 
कुछ बाते दिल को भा गए
जो बाते भूल गयी वो बीत गयी
जो बाते भा गयी वो अगली मुलाक़ात के बहाने दे गयी...
इंतज़ार नयी मुलाक़ात का ,,,,,,,,,,,,,,,




Hindi poetry, First date poem, first date poetry, 
pehli mulakat shayari, pehli mulakat, pehli mulakat poem, pehli mulakat poetry, pehli mulakat songs, hindi poem on pehli mulakat, hindi poetry pahala pyaar, hindi poetry on first meeting. pahala pahala pyaar,first time dating,hindi poem.
Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...