Followers

Thursday, October 2, 2014

Wo aurat वो औरत


वो औरत जब निकलती है घर से
दर्जनभर सुहाग की निशानिया पहनकर
सिंदूरी आभा बिखेरती उसकी माँग
गले में लटकाये तोलाभर मंगलसूत्र 
हाथों में पिया नाम की मेहंदी
और दर्जन - दो- दर्जनभर चूड़ियाँ 
पैरों की उंगलियो में हीरे जड़ित चाँदी के बिछुए
गहरे गुलाबी रंग के आलते से रंगे उसके पांव 
खुद को पल्लू में छुपाती,मुस्काती 
बड़ी ही खुशमिजाज लग रही थी
पर कोई न देख पाया उसकी 
एक और सुहाग निशानी 
जिसे उसने छुपा रखा है 
इनसभी सुहाग निशानियों के बीच 
कजरारी अँखियों में छुपी रोती हुयी आँखे
वो घाव जो उसकी चूड़ियों के बीच से कराह रहे थे
वो घाव जो उसके सुहाग की बर्बरता को 
चीख -चीख कर सुनाने की भरसक कोशिश कर रहे थे...
पर इन सुहाग निशानियों को छिपा दिया है 
उसने अपनी चमचमाती सुहाग निशानियों के बीच....
वो औरत ....
उस औरत ने....






hindi prem geet,hindi prem kavita,hindi prem kahaniya,hindi love poem,hindi love story,hindi love quotes,hindi love shayari,hindi poetry on girls,hindi poetry for girls,hindi poetry for mother,haiku,hindi short story,nature hindi poem,hindi prem kahaniya.

15 comments:

  1. bahut sari aurton ki kahani bayan ki aapne is marmik rachna me ....!

    ReplyDelete
  2. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (03.10.2014) को "नवरात महिमा" (चर्चा अंक-1755)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।दुर्गापूजा की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  3. मार्मिक रचना.
    नई पोस्ट : इतिहास के बिखरे पन्ने : आंसुओं में डूबी गाथा

    ReplyDelete
  4. मार्मिक ...किन्तु सच भी है

    ReplyDelete
  5. पंक्ति दर पंक्ति सच बयां करते हुये ..... अभिव्‍यक्ति बेहद गहन भाव लिये ..... मन को छू गई

    ReplyDelete
  6. बहुत बढ़िया मैम


    सादर

    ReplyDelete
  7. सच्चाई है यह मार्मिक कविता रीना जी ।

    ReplyDelete
  8. मर्मस्पर्शी ..

    ReplyDelete
  9. बहुत दर्द भरी रचना ! स्त्री के चेहरे की हर मुस्कान के नीचे आँसुओं का एक समंदर छिपा रहता है इसमें कोई संदेह ही नहीं है ! बड़ी कुशलता से वह उसे छिपा जाती है यह भी सत्य है !

    ReplyDelete
  10. सुहागन स्त्री के भीतर का दर्द --- मन को भिंगोती रचना
    सादर

    ReplyDelete
  11. नारी के मन की पीड़ा का बखूबी शब्दों मीन ढाला है आपने ... हालांकि नारी फिर ही उसे माफ़ कर देती है ... वृत रखती है उसके लिए ...

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...