Followers

Saturday, March 7, 2015

durangi दुरंगी


प्रेम के अर्थ को
वासना के अनर्थ 
से जोड़नेवाला 
वो दुरंगी चेहरेवाला 
दानवी राजकुमार 
यहीं - कहीं है 
आस - पास
यदा- कदा 
कभी टकराओ
तो संभलना
हे कोमल हृदयवाली बेटियों..... 


hindi poetry,hindi poem,hindi love poem,love story in hindi,hindi poems for girls,girls poem,poems for girls,poetry for girls,hindi short story,short stories in hindi,hindi writer,hindi quotes,love quotes,poetry for daughters,hindi shayari,hindi love shayari,hindi prem kavita,hindi prem kahaniya.

13 comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल सोमवार (09-03-2015) को "मेरी कहानी,...आँखों में पानी" { चर्चा अंक-1912 } पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस की
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर और सटीक रचना...

    ReplyDelete
  3. बहुत सटीक रचना।

    ReplyDelete
  4. फूल में सुगंध सुगंध में फूल इसप्रकार घूलेमिले है की
    समझना मुश्किल है ! सार्थक रचना !

    ReplyDelete
  5. बहुत उम्दा ... ऐसे लोगों से बचना और उन्हें पहचानना जरूरी है ...

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर और सार्थक रचना...ऐसे लोगों से सावधान रहने की जरूरत है...

    ReplyDelete
  7. बिलकुल सही, राजकुमारों के रूप में कई बार हैवान छिपा होता है, सावधान रहना होगा...

    ReplyDelete
  8. Good Lines !
    You are welcome on my blog

    ReplyDelete
  9. सही कहा आपने।

    ReplyDelete
  10. सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...