Followers

Friday, September 21, 2012

Sawal सवाल




कितने सवाल थे तुम्हारे 
एक मैं ही क्यूँ 
और भी तो कई है इस जहाँ में
क्यूँ चुना है तुमने मुझे
अपने लिए बताओ ना ???

अब क्या कहूँ 
क्यूँ चुना है तुम्हें
क्यूँ चाहा है तुम्हें...
तुम्हारा ये पागलपन...
बार -बार ये सवाल पूछना 
मेरी आवाज से ही 
तुम्हारा पहचान लेना
की, क्या है मेरे मन में 
बस
और कुछ पूछना है तो
मुझसे नहीं मेरी आँखों से पूछो
जो कुछ किया है उसने किया है
तुम्हें देखकर पलकें छपकने 
को तैयार ही ना था.
एक भी पल ना गवाँकर
भर लिया तुम्हें अपनी आँखों में 

मुझसे नहीं मेरे दिल से पूछो 
जो तुम्हें देखकर जोर - जोर से
धड़कने लगा,,
कितना समझाया इसे फिर भी
तुम्हें बसा लिया अपने दिल में 
और देखो तुम इस दिल की 
धड़कन बन गए...

मुझसे नहीं मेरे मन से पूछो 
जो तुम्हें ही सोचता रहता था
इस मन ने तो और भी 
आदत ख़राब कर दी थी मेरी...

मुझसे नहीं मेरे ख्वाबों से पूछो 
जिसमे रोज तुम्हारा 
आना जाना था..

मुझसे नहीं मेरी बेचैनियों से पूछो
जो तुम्हें एक नजरभर 
देख लेने को बेताब था...
उफ्फ्फ ||||
कितने सवाल है तुम्हारे..

दे दिए जवाब
तुम्हारे सवालों के...
अब ना पूछना कभी..
की क्यूँ चाहा है तुम्हें..
क्यूँ बनाया है तुम्हें अपना...





42 comments:

  1. इतनी सुन्दर कविता के लिये समर्पित हैं।
    भाषा सरल,सहज यह कविता,
    भावाव्यक्ति है अति सुन्दर।
    यह सच है सबके यौवन में,
    ऐसी कविता सबके अन्दर।
    कब लिख जाती कैसे लिखती,
    हमें न मालुम होता अकसर।
    बहुत सराहनीय प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  2. जब तक मोहब्बत है सवाल जवाबों का सिलसिला थमेगा नहीं.....और मोहब्बत न हो तो फिर सवाल....
    :-)

    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  3. भावमय करते शब्‍द ... अनुपम प्रस्‍तुति

    ReplyDelete
  4. अब ना पूछना कभी..
    की क्यूँ चाहा है तुम्हें..

    अब भी पूछने की गुंजाइश है क्या...सब कुछ तो बता दियाः)
    सुंदर रचना!!

    ReplyDelete
  5. रीना जी बेहद सुन्दर भाव संजोये है आपने, प्रेम होता ही ऐसा है ..........दिल कब किस पर आ जाये कुछ पता नहीं होता.

    ReplyDelete
  6. हर सवाल का जबाब नहीं मिल सकता ...कुछ जबाब
    आँखों ही आँखों में झाँक कर समझ लेना होता है !
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  7. शुद्ध सोलह आने प्रेम की बतियाँ | कोमल भावों की सुंदर रचना | प्रेम में अकेले शायद यूं ही बात की जाती है | ------"साथी" ब्लॉग पर आगमन एवं समर्थन के लिए आभार |

    ReplyDelete
  8. भावमयी करती सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  9. प्यार भरे मन की बेताबी

    ReplyDelete
  10. नाज़ुक सवाल-जवाब ......
    शुभकामनायें!
    खुश रहो!

    ReplyDelete
  11. ये भी एक अनोखा सवाल है हम क्यों किसी को प्यार करते हैं क्यों वह हमारे दिल में उतर गया ये खुशनसीबी कम लोगों को मिलती है सुन्दर भावों की लड़ियों की कड़ी

    ReplyDelete
  12. अब बचा ही कहाँ कुछ पूछने को ... सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  13. लाजवाब...सुंदर भाव से सजी एक बेहतरीन रचना |

    सादर|

    ReplyDelete
  14. Sweet, soft and delicate... great line Reena.

    Loved it..

    regards
    Sniel

    ReplyDelete
  15. कई सवाल ही ऐसे होते हैं ,जिनका कोई जवाब नही होता.और कई सवाल खुद अपने अन्दर बेशुमार जवाब लिए होते हैं.जिन्हें सिर्फ वही समझ सकते हैं.जिनके लिए लिखा जाता है.बहुत सुन्दर प्रस्तुती.

    ReplyDelete
  16. वाह...बहुत ही सुन्दर लगी पोस्ट।

    ReplyDelete
  17. ░░█░█▌█▀▀█ █▀▀█ █▀▀█ █▌▄█░░
    ░░█▀█▌█▄▄█ █▄▄█ █▄▄█ █▄██░░
    ░░█░█▌█▌▐█ █▌░░ █▌░░ ░██░░░
    ░╔╦═╦╗───╔╗──────╔╗─▄▄─▄▄▀▀▄▀▀▄
    ░║║║║╠═╦═╣╠╦═╦═╦╦╝║███████───▄▀
    ░║║║║║╩╣╩╣═╣╩╣║║║╬║▀█████▀▀▄▀
    ░╚═╩═╩═╩═╩╩╩═╩╩═╩═╝──▀█▀
    From Another Annual Day

    ReplyDelete
  18. greate poety.....i like it

    http://rajkumarchuhan.blogspot.in

    ReplyDelete
  19. तुम्हारा ये पागलपन...
    बार -बार ये सवाल पूछना
    ....................
    baar -baar dil me ek hook uthna....

    ReplyDelete
  20. बहुत खूब रीना जी |अच्छी कविता |

    ReplyDelete
  21. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  22. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  23. kash har sawal ka jabab mil jata....
    behtareen!

    ReplyDelete
  24. इक सवाल तुम करो
    इक सवाल मैं करूं
    हर सवाल का
    सवाल ही जवाब हो.....

    ReplyDelete
  25. जब सभी सवालों के ज़वाब मिल जाते हैं तो कितना सुकून मिलता है मन को ...बहुत सुन्दर और भावपूर्ण..

    ReplyDelete
  26. जब दिल में कोई बस जाता है तो सारे सवाल बेमानी हो जाते हैं.. सुन्दर प्रवाह ...

    ReplyDelete
  27. भाव संप्रेषण में समर्थ प्रश्नचिह्नयुक्त कविता।

    ReplyDelete
  28. ये कुछ ऐसे सआल हैं जो जितने अनुत्तरित रहते हैं, मन को उतना ही सुकून मिलते हैं। यदि हल हो गए तो फिर वो कशिश जाती रहती है।

    ReplyDelete
  29. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 29/09/2012 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    ReplyDelete
  30. Hi I am 1st time come on your blog.I likw very much.its very romantic.I start a online videos education blog in romen.so I invite to you in my blog.welcome to
    http://online-elearn.blogspot.com/

    ReplyDelete
  31. बहुत प्य्रारे सवाल उससे भी प्यारे जबाब बहुत बढ़िया प्रस्तुति लाजबाब

    ReplyDelete
  32. रीना जी टूटकर प्यार करना शायद इसी को कहते हैं...बहुत खूब ...

    ReplyDelete
  33. ढेरों सवाल और जबाब सिर्फ .....||
    बहुत अच्छी रचना..

    ReplyDelete
  34. achha hai aapko apke swalon ke jawab mil gaya. really nice.

    Maine apni post me bhot swal kiye hai. aayiye or padiye shayad mujhe bhi jwab mil jaye.

    post KYUN????

    http://udaari.blogspot.in

    ReplyDelete
  35. सवालों के जवाब मिल जाते है जब
    सुखी हो जाते हैं दोनो
    करने वाला और देने वाला भी ।

    ReplyDelete
  36. बहुत ही भावभीनी सुंदर प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  37. दिल के मामले में सारे सवाल व्यर्थ हो जाते है. बहुत सुंदर और खूबसूरत प्रस्तुति.

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...