Followers

Sunday, September 16, 2012

Mera Raaz **** मेरा राज ****


जीवन की कई बातें 
कुछ अपनी , कुछ दुनिया की
कुछ पूरी , कुछ अधूरी
ये सारी बातें मेरी डायरी में बंद
जो ना कह पाती हूँ किसी से
वो कहती हूँ  सिर्फ तुमसे
मेरी डायरी,,,
मेरे जीवन का राज हो तुम
छुपाकर रखना अपनी आगोश में
मेरे जज्बात को
मेरी पीर को मेरे भाव को
कहीं कोई देख ना ले तुम्हें 
जान ना जाए की मै क्या हूँ
हँसती तो हूँ पर आँखों में सैलाब लिए
होंठो पर मुस्कान है
पर दर्दभरी जुबान है
मैं हूँ एक खामोश लहर
जो उठना चाहती हूँ ऊँचा
ऊँचा और ऊँचा 
इक्षाओं की गठरी बांध के
ख्वाइशों को थैले में भर के
सौंप दिया है तुम्हें
जरा संभल के रहना
कभी किसी के हाँथ ना आना
कोई मनचला ना देख ले तुझको
खोजते - खोजते ना पा जाए मुझको 
खेले मेरी पीर के साथ
भावनाओं की हँसी उड़ाए
तब क्या होगा जब मेरी 
खामोश भावनाएँ
उसके शोर में गुम हो जाएगी 
ना - ना - ना 
ऐसा नहीं होना चाहिए 
मेरी डायरी,,,
तुम मुझे भर लो खुद में 
और आओ मैं तुम्हें 
छुपा दूँ कहीं ।।।।






40 comments:

  1. मेरी डायरी
    मेरे जीवन का राज हो तुम
    छुपाकर रखना अपनी आगोश में
    मेरे जज्बात को
    .....................................................
    हर किसी के मन में ऐसी ही एक डायरी होती है
    संजीदा....मन की अमिट डायरी
    दर्द भरी जुबान की खामोश डायरी.

    ReplyDelete
  2. वाह बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति, सुन्दरता से परिपूर्ण

    ReplyDelete
  3. भावनाओं की हंसी नहीं उड़नी चाहिए...उसे सहेज कर रखना ही उचित है...सुंदर रचना !!

    ReplyDelete
  4. कहीं कोई देख ना ले तुम्हें
    जान ना जाए की मै क्या हूँ
    हँसती तो हूँ पर आँखों में सैलाब लिए
    होंठो पर मुस्कान है
    पर दर्दभरी जुबान है

    अक्सर लोग अपने दर्द को यूं ही छुपाते हैं और चेहरे पर मुस्कान लाते हैं ... भायुक्त रचना

    ReplyDelete
  5. इक्षाओं की गठरी बांध के
    ख्वाइशों को थैले में भर के
    सौंप दिया है तुम्हें
    जरा संभल के रहना
    कभी किसी के हाँथ ना आना
    कोई मनचला ना देख ले तुझको
    खोजते - खोजते ना पा जाए मुझको
    खेले मेरी पीर के साथ
    बहुत गहरी पंक्तियाँ मन की डायरी में तो अनगिनत अफ़साने कैद होते हैं किसी के पा जाने का खतरा नहीं होता ---बहुत अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  6. मेरे जीवन का राज हो तुम
    छुपाकर रखना अपनी आगोश में
    मेरे जज्बात को
    मेरी पीर को मेरे भाव को
    कहीं कोई देख ना ले तुम्हें
    जान ना जाए की मै क्या हूँ

    रहिमन निज मन की व्यथा मन ही राखो गोय
    आपने सुन्दर माध्यम चुना . सुन्दर अति सुन्दर .

    ReplyDelete
  7. डायरी एक सार्थक मित्र है

    ReplyDelete
  8. होंठो पर मुस्कान है
    पर दर्दभरी जुबान है
    मैं हूँ एक खामोश लहर
    जो उठना चाहती हूँ ऊँचा
    ऊँचा और ऊँचा ....वाह: बहुत सुन्दर..रीना..

    ReplyDelete
  9. अपनी भावनाओं को व्यक्त करने में सफल रचना | लो बातें तो डायरी से हो रही थी पर आज ये राज़ हमने भी जान लिया :) सुन्दर रचना |

    ReplyDelete
    Replies
    1. नहीं-नहीं सच में मेरा राज नहीं है
      काल्पनिक मात्र है...
      :-)

      Delete
    2. :-) हम नहीं मानते...
      अनु

      Delete
    3. सच में अनु दी ....
      :-)

      Delete
  10. bahut achchhi rachna ....
    sach kahoon to dayari hi sachchhi dost hoti hai ....

    ReplyDelete

  11. जरा संभल के रहना
    कभी किसी के हाँथ ना आना
    कोई मनचला ना देख ले तुझको
    ...
    ... पसंद आया सीधे दिल पर उतर गयी पंक्तियाँ...
    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  12. बहुत ही खूबसूरत कविता |

    ReplyDelete
  13. बहुत खूब |
    आपने बड़ी सहजता से अपने मनोभावों को इन पंक्तियों में संजोया हैं,सच में डायरी लिखना कभी ना खत्म होने वाला एक सुखद एहसास है|

    आभार |

    ReplyDelete
  14. तभी तो कहते हैं मत पढ़ना किसी की डायरी...जाने कौन से भ्रम टूट जाए....
    बहुत प्यारी रचना रीना
    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
  15. ऐसी ही बातें तो मैं भी लिखता था अपनी डायरी में। इसका मतलब सभी यही सब लिखते हैं एक उम्र में।

    ReplyDelete
    Replies
    1. ...... शायद......

      :-) :-) :-) :-) :-) :-) :-):-)

      Delete
  16. मैं और मेरी डायरी ... तन्हाई में कुछ बातें करते हैं ...
    देखो किसी को मिल न जाना ... बहुत खूब ... इअको लिखने का मज़ा कुछ और ही है ...

    ReplyDelete
  17. और ये ही डायरी ...जीवन का आधार बन जाती हैं

    ReplyDelete
  18. aapki comment mujhe milte rhte hain aapka bahut bahut shukriya.........facebook ke liye apna link bheje ya mere is link pr click kre http://www.facebook.com/pk.sharma.5661

    ReplyDelete
    Replies
    1. शर्मा जी...
      मैंने सिर्फ फेसबुक पेज बनायीं हूँ
      :-)

      Delete
  19. बहुत सुन्दर रीना जी... सच में देखा जाए तो अपनी डायरी में हम अपने वास्तविक रूप में छिपे होते हैं जिसे हम दुनिया की नज़रों से छिपा कर रखना चाहते हैं.

    ReplyDelete
  20. जीवन की कई बातें
    कुछ अपनी , कुछ दुनिया की
    कुछ पूरी , कुछ अधूरी
    ये सारी बातें मेरी डायरी में बंद
    जो ना कह पाती हूँ किसी से
    वो कहती हूँ सिर्फ तुमसे
    मेरी डायरी,,,

    बहुत ही सुंदर रचना |
    मेरी नई पोस्ट में आपका स्वागत है |
    मेरा काव्य-पिटारा:बुलाया करो

    ReplyDelete
  21. खुबसूरत एहसास .....
    शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  22. डायरी को दूसरे लोग चोरी छुपे पढ़ना चाहते हैं,जबकि मर्यादा उसकी गोपनीयता के बने रहने में ही है।

    ReplyDelete
  23. सुंदर शब्दों में पिरोये जज़्बात .....

    ReplyDelete
  24. इक्षाओं की गठरी बांध के
    ख्वाइशों को थैले में भर के
    सौंप दिया है तुम्हें

    ...बहुत कोमल अहसास...सुन्दर भावपूर्ण रचना..

    ReplyDelete
  25. कल 20/09/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद यशवंत जी...
      :-)

      Delete
  26. इच्छओं की गठरी बांध के
    ख्वाइशों को थैले में भर के
    सौंप दिया है तुम्हें
    जरा संभल के रहना
    बहुत की नाजुक मनुहार, क्या कहने, वाह !!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  27. An open secret,and dairy is made accountable! Not fair! :-)

    ReplyDelete
  28. बहुत सुंदर भावाव्यक्ति ,बधाई

    ReplyDelete
  29. डायरी पर एक अच्छी कविता

    ReplyDelete
  30. बहुत ही कोमल भावनावों को आपने सहेजा है अपनी डायरी में , बहुत सुंदर रीना जी |

    ReplyDelete
  31. वाह ... बहुत ही बढिया ।

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...