Followers

Thursday, September 18, 2014

Prem प्रेम



मैंने कहा प्रेम और 

उसने मेरा नाम लिख दिया ....
अश्को के मोतियों से 
मेरे काँधे को भिगो दिया ....
हाथ थाम मेरा 
बड़ी शिद्दत से जो उसने कहा ,,,
चलोगी साथ मेरे
हां कह दिया मन ने 
और मेरा दिल उसके साथ चल दिया....
मैंने कहा प्रेम -
और उसने मेरा नाम लिख दिया .....

*****************************************
*********************************************

उदास लम्हों को दूँ उलाहना 
की तू चला जाये .....
खुशनुमा पलों से करूँ गुजारिश
की वो जरा ठहर जाये .....
आज जश्न - ऐ - बहार होगा 
खुशियां होंगी साथ 

लबों पर सजेंगी मुस्कानें ...
आज बड़े दिनों बाद
मेरे हाथों में
मेरे सनम का हाथ होगा....

********************************
***********************************************




hindi prem geet,hindi prem kavita,hindi prem kahaniya,hindi love poem,hindi love story,hindi love quotes,hindi love shayari,hindi poetry on girls,hindi poetry for girls,hindi poetry for mother,haiku,hindi short story,nature hindi poem,hindi prem kahaniya.

23 comments:

  1. आपकी लिखी रचना शनिवार 20 सितम्बर 2014 को लिंक की जाएगी........... http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद यशोदा जी...

      Delete
  2. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (19.09.2014) को "अपना -पराया" (चर्चा अंक-1741)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद राजेंद्र जी....

      Delete
  3. अच्छी हैं, आत्मलीन -सी कविताएँ !

    ReplyDelete
  4. वाह प्रेम से भरा भरा

    ReplyDelete
  5. हां कह दिया मन ने
    और मेरा दिल उसके साथ चल दिया....
    मैंने कहा प्रेम -
    और उसने मेरा नाम लिख दिया .....

    क्या बात है...बड़ा ख़ूबसूरत लिखा है.

    ReplyDelete
  6. परम आत्मीय सी अत्यंत सुकोमल रचनाएं ! बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  7. बहुत बढ़िया मैम !


    सादर

    ReplyDelete
  8. प्रेम की भाषा--कभी कही कभी अनकही.

    ReplyDelete
  9. मन के भावो को खुबसूरत शब्द दिए है अपने.....

    ReplyDelete
  10. हां कह दिया मन ने
    और मेरा दिल उसके साथ चल दिया....

    वाह.. बेहद उम्दा कविताएँ

    कभी मेरे ब्लॉग तक भी पधारिये मुझे अच्छा लगेगा पासबां-ए-जिन्दगी: हिन्दी

    ReplyDelete
  11. मैंने कहा प्रेम और
    उसने मेरा नाम लिख दिया ....बहुत ही सुंदर भाव !

    ReplyDelete
  12. बेहद ख़ूबसूरत अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  13. प्रेम और उनका नाम ... सच में दोनों एक ही हैं ...

    ReplyDelete
  14. बहुत ही सुंदर

    ReplyDelete
  15. मैंने कहा प्रेम -
    और उसने मेरा नाम लिख दिया .....
    ................ क्‍या बात है बहुत खूब

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...