Followers

Sunday, January 15, 2017

libas लिबास


जब दुःख का जहर
उफनता है
मन छोटा हो जाता है
दिल रोता है
जब सोच- सोचकर उसकी बातें
दुखती है दिमाग की
नस – नस
पर ना देखे कोई और
मेरे इस दर्द की सच्चाई को
तो लो एक बार फिर
ओढ़ लिया है मैंने
मुस्कुराहटों का लिबास
फिर से तुम्हारा सच छिप गया
और मेरा झूठ निखर गया
मेरी मुस्कुराहटों के पीछे

2 comments:

  1. जीवन की विषम परिस्थितियों में मुस्कराहट बहुत काम आती है ...

    ReplyDelete
  2. भावपूर्ण सुंदर प्रस्तुति रीना जी ।

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...