Followers

Wednesday, January 25, 2012

Mai Rahu Na Rahu Mera Prem Tumhare Sath Hoga मै रहूँ न रहूँ मेरा प्रेम तुम्हारे साथ होगा

(ये जज्बात, ये भावनाए उस फौजी की है जो अपनी पत्नी को घबराते हुये उसके जाने कि सारी तैय्यारीयाँ
 करते देखता है, सोचता है और उसे समझाता है की, वो उसे खुशी ख़ुशी विदा करे और उसके जाने के बाद खुद भी व्यर्थ के आंसू ना बहाकर खुश रहे ...)




तुमसे जुदाई का हर वो पल तड़पाता है मुझे 
जब भी हँसता - मुस्कुराता , दुःख को छुपाता
तेरा वो चेहरा याद आता है मुझे 
तेरे होंठो पर हँसी तो थी 
पर ना जाओ ऐसी फरियाद भी थी 
तेरी आँखों में दर्द था , आँसु भी थे 
पर उनको छुपाती , मुस्कुराकर तू दिखाती मुझे 
सब समझता हूँ मै,
मै समझता हूँ तेरे हर भाव को 
जो तू मुझसे छुपाती है और मुस्कुराती है 
कभी - कभी तो मै सोचता हूँ की , 
मैंने तेरे माथे पर अपने नाम का सिंदूर तो लगा दिया 
तुझे अपना तो बना लिया 
पर प्यार दिया या डर ?
सच कहो डरती हो न तुम ?
की , मै लौटकर आउंगा या नहीं 
अगर आ भी गया तो रहुँगा या नहीं 
हर वक़्त ये सवाल तुम्हे तड़पाते होंगे 
अकेले में तो और भी सताते होंगे ????
पर सुनो ,
जीवन का पहला फ़र्ज़ धरती माँ की रक्षा है 
और तुम उस रक्षक की प्रीया हो 
जिसे धरती माँ ने अपनी रक्षा के लिए चुना है 
फिर ये डर कैसा? क्यों इतनी खलिश है मन में ?
मै रहूँ ना रहूँ मेरा प्रेम तुम्हारे साथ होगा 
अब भी , आज भी ,, और हमेशा ही ....




....  गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएँ ....

55 comments:

  1. Sundar Vichaar,deshbhati ke zazbe se bharee huyee kavitaa

    ReplyDelete
  2. मै रहुँ ना रहुँ मेरा प्रेम तुम्हारे साथ होगा
    अब भी , आज भी ,, और हमेशा ही ....

    बहुत ही अच्छे से अभिव्यक्त किया है।

    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभ कामनाएँ।

    सादर

    ReplyDelete
  3. बेहतरीन..........
    भावपूर्ण रचना..

    ReplyDelete
  4. प्रभावित करते भाव.... जय हिंद

    ReplyDelete
  5. Replies
    1. मेरी रचना को भी ब्लॉग बुलेटिन में सम्मिलित कर सम्मान देने के लिये
      आपका बहूत - बहूत आभार ...

      Delete
  6. बेहतरीन।
    देशभक्ति के जज्‍बे को सलाम।
    जय हिंद... वंदे मातरम्।

    ReplyDelete
  7. बढ़िया रचना बन पड़ी है, बधाई

    ReplyDelete
  8. देश भक्ति से ओतपोत रचना को नमन।
    एक ओर एक देशभक्त सैनिक के हृदय को द्रवित कर देने वाले भाव।
    दूसरी ओर कुछ अनुत्तरित प्रश्न.......
    कृपया इसे भी पढ़े---
    क्या यही गणतंत्र है

    ReplyDelete
  9. bahut bahut bdhai... ek behatreen rachnake liye..!!
    happy republic dy..

    ReplyDelete
  10. बधाई....
    .''रहुँ ना रहुँ'' को ठीक करना ज़रूरी है..''रहूँ न रहूँ''

    ReplyDelete
  11. बहुत बढिया लेखनी

    गणतंत्र दिवस की शुभकामनायें..

    ReplyDelete
  12. एक फौजी न सिर्फ माटी से प्रेम करता है बल्कि अपने परिवार, अपने प्रेम से भी उतना ही प्यार करता है ...

    आपको गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं ...

    ReplyDelete
  13. अच्छी पोस्ट रीना जी बधाई और शुभकामनाएँ |

    ReplyDelete
  14. जीवन का पहला फ़र्ज़ धरती माँ की रक्षा है
    और तुम उस रक्षक की प्रीया हो
    जिसे धरती माँ ने अपनी रक्षा के लिए चुना है
    फिर ये डर कैसा? क्यों इतनी खलिश है मन में ?
    मै रहुँ ना रहुँ मेरा प्रेम तुम्हारे साथ होगा
    अब भी , आज भी ,, और हमेशा ही ....
    सुन्दर भाव लिये प्रेरणादाई रचना
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें


    vikram7: कैसा,यह गणतंत्र हमारा.........

    ReplyDelete
  15. फौजी जितना अपने परिवार से प्रेम करता है उतना ही प्रेम अपनी माटी से से भी करता है

    आपको गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं ...
    जय हिंद...वंदे मातरम्।

    ReplyDelete
  16. मै रहूँ न रहूँ मेरा प्रेम तुम्हारे साथ होगा
    अब भी , आज भी ,, और हमेशा ही ...

    .....ऐसे जज्‍बे को मेरा भी सलाम।

    ReplyDelete
  17. जीवन का पहला फ़र्ज़ धरती माँ की रक्षा है
    और तुम उस रक्षक की प्रीया हो
    जिसे धरती माँ ने अपनी रक्षा के लिए चुना है
    फिर ये डर कैसा? क्यों इतनी खलिश है मन में ?
    मै रहुँ ना रहुँ मेरा प्रेम तुम्हारे साथ होगा
    अब भी , आज भी ,, और हमेशा ही ....उत्कृष्ट भाव

    ReplyDelete
  18. दिल की तह तक छूने वाली रचना.
    गणतन्त्र दिवस की शुभकामनायें..

    ReplyDelete
  19. बहुत सुंदर भावपूर्ण प्रस्तुति|
    गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनायें|

    ReplyDelete
  20. कोमल भावो की और मर्मस्पर्शी.. अभिवयक्ति ........गणतन्त्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएँ ....................

    ReplyDelete
  21. जीवन का पहला फ़र्ज़ , धरती माँ की रक्षा है ,
    और तुम उस रक्षक की प्रीया हो ,
    जिसे धरती माँ ने अपनी रक्षा के लिए चुना है ,
    " फौजी " देश की सीमा पर सजग होते है ,
    तभी हमसब अपने-अपने आशियाने में शकुन से सोते है ,
    " फौजी " के वियोग को भी आज के दिन सलाम.... !!!!!

    ReplyDelete
  22. बहुत मर्मस्पर्शी और प्रेरक प्रस्तुति...बहुत सुन्दर ..गणतंत्र दिवस की शुभकामनायें! जय हिन्द!

    ReplyDelete
  23. desh prem ke saath-saath neh se bhari sunder rachna. padhna achha laga.

    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  24. बहुत सुंदर...जय हिन्द

    ReplyDelete
  25. दरअसल हर सफल सेनानी की सफलता के पीछे उसकी प्रतीक्षारत पत्नी-प्रेयसी का हाथ रहता है.. लक्षमण के साथ उर्मिला को विस्मृत नहीं किया जा सकता.. बहुत ही संजीदा रचना!!

    ReplyDelete
  26. बहुत खूबसूरत रचना .......देश के प्रति सुन्दर भाव को दर्शाती सुन्दर रचना |

    ReplyDelete
  27. bahut hi bhavvibhor karti sundar sarthak rachna dil men gahre utar gayee....

    ReplyDelete
  28. bahut hi sundar rachna ,desh prem ko darshati huee....bdhai....naye blog par aap saadr aamntrit hai ....

    गौ वंश रक्षा मंच
    gauvanshrakshamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  29. मन को चू गई..बहुत खूबसूरत रचना ...जय हिन्द..बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  30. इस देश भक्ति के जज़्बे को सलाम। भाव पूर्ण अभिव्यक्ति के लिए बधाई।

    ReplyDelete
  31. सुन्दर भाव में भिगोती सशक्त रचना के लिए बधाई..

    ReplyDelete
  32. सुन्दर अकविता ! आप को भी बधाई !

    ReplyDelete
  33. बहुत बेहतरीन और प्रशंसनीय.......
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  34. बसंत पचंमी की शुभकामनाएँ।

    ReplyDelete
  35. देशप्रेम के आगे सभी प्रेम न्योछावर हैं।
    बढि़या रचना।

    ReplyDelete
  36. लाजबाब,बहुत सुंदर प्रस्तुति,

    एक ब्लॉग सबका '

    ReplyDelete
  37. सुन्दर और शानदार .

    ReplyDelete
  38. देश प्रेम से ओतप्रोत बहुत सुन्दर एवं भावपूर्ण रचना के लिए बधाई!

    ReplyDelete
  39. उत्साहवर्धक रचना!! बेहद भावपूर्ण!!

    ReplyDelete
  40. इस सार्थक पोस्ट के लिए बधाई स्वीकार करें.

    ReplyDelete
  41. kya baat hai hamare blog pr nahi aa rahi hain aap aj kl........aapki is rachna ke liye badhai

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद ..
      जी कुछ व्यस्तता होने के कारण सब ब्लॉग पर नहीं पहुँच पा रही हूँ.
      पर अब जरुर आउंगी ...

      Delete
  42. जीवन का पहला फ़र्ज़ धरती माँ की रक्षा है
    और तुम उस रक्षक की प्रीया हो

    वाह...बहुत प्रेरक भाव...इस सुन्दर रचना के लिए बधाई स्वीकारें

    नीरज

    ReplyDelete
  43. सार्थक, सुन्दर व बेहतरीन प्रस्तुती ,

    ReplyDelete
  44. बढ़िया लेख इसे भी देखे :- http://hindi4tech.blogspot.com

    ReplyDelete
  45. देशभक्ति का भाव जागृत करती रचना को शत शत नमन.......
    कृपया इसे भी पढ़े
    नेता,कुत्ता और वेश्या

    ReplyDelete
  46. बहुत ही भावपूर्ण,मार्मिक और हृदयस्पर्शी प्रस्तुति है आपकी.
    गाना भी लाजबाब है.आपका लेखन उत्कृष्ट है.


    अनुपम प्रस्तुति के लिए बहुत बहुत आभार रीना जी.

    मेरे ब्लॉग पर आईएगा.

    मेरी पोस्ट 'हनुमान लीला -भाग ३' पर आपके सुविचार आमंत्रित हैं.

    ReplyDelete
  47. Bahut hi khoob likha hai..
    ek sainik k jazbaato ko bakhoobi bayaan kiya hai..

    ReplyDelete
  48. shabd nahin hain tareef ke liye.... bus itni achchi rachna padhane ke liye thanks...

    ReplyDelete
  49. सैनिकों के मनों भावों को भला इससे बेहतर नहीं समझा जा सकता है... बेहतरीन पोस्ट.

    ReplyDelete
  50. हर फौजी भाई इन जज्बात को देख कर राहत महसूस कर रहे होंगे.बहुत बेहतरीन जज्बात ,काबिले तारीफ़ .आई लव माय इंडिया .
    'मोहब्बत नामा '

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...