Followers

Saturday, January 19, 2013

Kasur कसूर



जाओ चले जाओ
अपने सारे ख्वाब भी ले जाओ
वो झूठे वादे भी ले जाओ ......
वो झूठी कस्मे भी ले जाओ
वो तुम्हारा रूठना भी ले जाओ
पर मेरा मनाना मुझे दे जाओ ........
वो प्यारे ख़त जला दो अभी इसी वक्त
पर मेरी यादें , मेरी बाते मुझे लौटा दो
बस चले जाओ दे दो आजादी  .......
इस झूठे प्रेम से इस छल से 
बस इतना बताते जाओ 
की, मेरा कसूर क्या था.....
बीना कसूर जा रहे हो
तो एक सजा भी लेते जाओ .......
मेरी दुआएँ
फिर लौट कर आने की.....

रिश्तों को यूँ ही नहीं बिखरने दूंगी
आज तुम्हारी जिद है तो जाओ .....
एक संकल्प मेरा भी है .....
तुम्हें फिर ले आउंगी ....

42 comments:

  1. संकल्प कायम रहे ...
    बढ़िया रचना

    ReplyDelete
  2. इस झूठे प्रेम से इस छल से
    बस इतना बताते जाओ
    की, मेरा कसूर क्या था.....
    बीना कसूर जा रहे हो
    तो एक सजा भी लेते जाओ .......
    मेरी दुआएँ
    vah kya khoob फिर लौट कर आने की.....

    रिश्तों को यूँ ही नहीं बिखरने दूंगी
    आज तुम्हारी जिद है तो जाओ .....
    एक संकल्प मेरा भी है .....
    तुम्हें फिर ले आउंगी ....

    ReplyDelete
  3. रिश्तों को यूँ ही नहीं बिखरने दूंगी
    आज तुम्हारी जिद है तो जाओ .....
    एक संकल्प मेरा भी है .....
    तुम्हें फिर ले आउंगी ....

    काश,,,सभी संकल्प पर कायम रहें,,,,और वापस ले आयें,,

    ReplyDelete
  4. रिश्तों को यूँ ही नहीं बिखरने दूंगी
    आज तुम्हारी जिद है तो जाओ .....
    एक संकल्प मेरा भी है .....
    तुम्हें फिर ले आउंगी ....

    काश ,,सभी संकल्प पर कायम रहे,,और वापस लाएं,,,

    recent post : बस्तर-बाला,,,

    ReplyDelete
  5. प्रभावी प्रस्तुति-
    आभार आदरेया -

    ReplyDelete
  6. बहुत ही बढ़िया


    सादर

    ReplyDelete
  7. प्यार में उसके बौरा गयी हो....
    कभी कहती हो जाओ..कभी कहती हो लौटा लाओगी...
    छलिया है तो जाने दो...प्रेमी है तो जाएगा नहीं :-)

    सस्नेह
    अनु

    ReplyDelete
    Replies
    1. है तो प्रेमी ही .पर रास्ता भटक गया है
      यूँ अकेला कैसे छोड़ दू ,,,अभी जिद है
      तो जाने दिया है।बाद में समझाउंगी ....
      रिश्तों को ऐसे टूटने नहीं दूंगी।।
      एक कोशिश तो जरुर करुँगी।।
      :-)

      Delete
    2. :-) कोशिशें अक्सर कामयाब होती हैं...

      Delete
  8. वाह खूबसूरत प्रस्तुति

    ReplyDelete
  9. रिश्तों को यूँ ही नहीं बिखरने दूंगी
    आज तुम्हारी जिद है तो जाओ .....
    एक संकल्प मेरा भी है .....
    तुम्हें फिर ले आउंगी ....



    प्यार सच्चा है तो लौट कर जरुर आएगा !! आखिर कच्चे धागे मगर पक्के रिश्ते की डोर उसको खिंच लाएगी वापिस !! बस खुद पे और अपने प्यार पर भरोसा रखते हुए जाने दीजिए

    New Post

    Gift- Every Second of My life.

    ReplyDelete
  10. रूठना और मनाना भी प्यार की निशानी है.

    सुंदर प्रस्तुति, सुंदर कविता.

    ReplyDelete
  11. प्रेम में सेवाभिमान होना तो स्वाभाविक है ...
    अपने आप लौट के आएंगे ...

    ReplyDelete
  12. प्यार का रिश्ता एक अनमोल रिश्ता है,बहुत ही सुंदर रचनात्मक अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  13. वाह!
    आपकी यह पोस्ट कल दिनांक 21-01-2013 के चर्चामंच पर लिंक की जा रही है। सादर सूचनार्थ

    ReplyDelete
    Replies
    1. धन्यवाद सर ....
      :-)

      Delete
    2. is kavita ke vicharo ke liye aapko bhut bhut badhi v sadhvivad

      Delete
  14. रूठने और मनाने का अपना मजा है :-)
    बहुत खूब, सुन्दर भावाभियक्ति !

    ReplyDelete
  15. खुद पर विश्वास की बात कहती सुंदर रचना

    ReplyDelete
  16. टूटे रिश्तों को जोड़ना सबसे मुश्किल काम है. सुन्दर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  17. सुंदर प्रस्तुति,

    ReplyDelete
  18. खुद पर भरोसा है, प्यार सच्चा है तो लौटना ही होगा... अटूट विश्वास से भरी खूबसूरत रचना... शुभकामनायें

    ReplyDelete
  19. रिश्तों को यूँ ही नहीं बिखरने दूंगी
    आज तुम्हारी जिद है तो जाओ .....
    एक संकल्प मेरा भी है .....
    तुम्हें फिर ले आउंगी ....

    ये हुई न पते की बात प्रेम करो तो निष्ठां भी ऐसी ही होनी चाहिए

    ReplyDelete
  20. रिश्तों को यूँ ही नहीं बिखरने दूंगी
    आज तुम्हारी जिद है तो जाओ .....
    एक संकल्प मेरा भी है .....
    तुम्हें फिर ले आउंगी ....
    बहुत सुन्दर .सार्थक रचना.

    ReplyDelete
  21. वाह: बहुत सुन्दर..

    ReplyDelete
  22. जिद्द बरक़रार रहे :-)

    ReplyDelete
  23. रिश्तों को यूँ ही नहीं बिखरने दूंगी
    आज तुम्हारी जिद है तो जाओ .....
    एक संकल्प मेरा भी है .....
    तुम्हें फिर ले आउंगी ....

    ...वाह! विश्वास हो तो ऐसा...बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  24. बीना कसूर जा रहे हो
    तो एक सजा भी लेते जाओ .......
    मेरी दुआएँ
    फिर लौट कर आने की...
    ......अटूट विश्वास से भरी खूबसूरत रचना !!!!

    ReplyDelete
  25. SACHHA HAI TO LAUT KE JAROOR AAYEGA... ATI SUNDAR...

    ReplyDelete
  26. आपको गणतंत्र दिवस की बधाइयाँ और शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  27. चलिए संकल्प तो ले ही लिया है आपने...बस फिर क्या बात है :)

    ReplyDelete
  28. अति सुन्दर ,भावपूर्ण रचना ...

    ReplyDelete

  29. रिश्तों को यूँ ही नहीं बिखरने दूंगी
    आज तुम्हारी जिद है तो जाओ .....
    एक संकल्प मेरा भी है .....
    तुम्हें फिर ले आउंगी ..

    sunder abhivyakti

    shubhkamnayen

    ReplyDelete
  30. रिश्तों को यूँ ही नहीं बिखरने दूंगी
    आज तुम्हारी जिद है तो जाओ .....
    एक संकल्प मेरा भी है .....
    तुम्हें फिर ले आउंगी ....bahut sunder bhaav.

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...