फ़ॉलोअर

शनिवार, 23 जुलाई 2011

Sham ki tanhayi शाम की तन्हाई

तन्हाई भरी शाम थी वो 
और यादो में थी किसी की याद
उनके आने का इंतजार
करते थे हम भी उनसे बेपनाह प्यार,
उनके दिल में भी थे कुछ जजबात,
 मौसम ने ली अंगडाई ,
और तन्हाई भरी ये शाम आई.
एक रोज बैठा करते थे हम,
आँखों में डाले आँखे ,
आज नजरे चुराके बैठे है वे  कही दूर जाके,
उनके इंतजार में है ये दिल बेक़रार,
क्या उन्हें भी है हमारा इंतजार,
ये शाम की तन्हाई कैसी - कैसी उलझने लायी,
जिसने किया था वादा साथ देने का,
आज उसने क्यों ये दूरिया लायी,
ये शाम की तन्हाई.


Evening Loneliness,  Love poetry on loneliness, An Evening of Loneliness,Shaam ki Tanhayi,Hindi poems, Akelapan, Hindi poetry, Love poetry in Hindi, Akelapan ek tanhayi, tanhayi ka alam, sad poem, sad poetry, sad song. love song in hindi,

16 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत ही बढ़िया।

    --------
    कल 13/09/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  2. A suggestion-
    Please inactive the word verification in comments as it takes more time of reader to publish a comment on your post.
    please follow this path -Login-Dashboard-settings-comments-show word verification (NO)
    see this video to understand it more-
    http://www.youtube.com/watch?v=L0nCfXRY5dk

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत ही गहनाभिब्यक्ति के साथ लिखी शानदार रचना बधाई आपको /





    please visit my blog
    wwww.prernaargal.blogspot.com

    जवाब देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर लिखतीं हैं आप ...

    जवाब देंहटाएं
  5. bhaut hi khubsurati se tanhaai ko shabdo me piroya hai aapne....

    जवाब देंहटाएं
  6. बहुत खूबसूरती के साथ शब्दों को पिरोया है इन पंक्तिया में आपने

    जवाब देंहटाएं
  7. achhi rachna ke liye dhanyavad.
    bhupal sood
    ayan prakashan

    जवाब देंहटाएं
  8. मुझे ये कविता बहुत पसंद आई रीना जी
    आपने भावो को बहुत अच्छे शब्द दिए है .
    बधाई जी
    विजय

    जवाब देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...