Followers

Saturday, January 12, 2013

Ek jashn aisa bhi एक जश्न ऐसा भी ..



आज मैंने देखा सड़क पर 

एक नन्हा सांवला बच्चा 

प्यारा सा,, खाने की थाली में कुछ ढूंढ़ता हुआ

उस थाली में था भी तो ढ़ेर सारा पकवान .....

वहीँ पास उसकी बहन थी
जो एक सुन्दर से दिए के
साथ खेल रही थी .....
दिए की रोशनी से उसकी आँखे चमचमा रहीं थी
वो छोटी सी झोपड़ी भी दिए के
रोशनी से रोशन हो गयी थी...
वरना दूर सड़क पर की स्ट्रीट लाइट 
का सहारा तो था ही...
बगल में बैठी उसकी माँ 
अपने बच्चों की ख़ुशी से
फूली नहीं समां रही थी...
थोड़ी ही दूर अगले मोड़ पर एक दावत थी..
सेठ जी के  पोते का मुंडन था...
शायद वहां के सेठ-या सेठानी 
इनपर मेहरबान हुए होंगे
तभी तो आज यहाँ भी जश्न का माहौल है...
शायद जब महलों में दिया जलता है
तभी होती है इन झोपड़ियों में रोशनी ....


45 comments:

  1. उनकी आँखें दीयों से कम नहीं ....

    ReplyDelete
  2. अमीरी गरीबी की झलक दिखाती एक मार्मिक प्रस्तुती। पर एक बात तो कहना चाहूँगा 'आमिर और गरीब का फर्क कितना नगण्य है,एक ही दिन की भूख और एक ही घंटे की प्यास दोनों को समान बना देती है।"

    ReplyDelete
  3. ह्म्‍म्म्म.... शायद... ऐसा ही हो...! दुख होता है मगर...है ना !
    ~सादर!!!

    ReplyDelete
  4. मर्मस्पर्शी ... अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  5. तभी होती है
    इन झोपड़ियों में रोशनी ....
    और मनाते हैं
    ये जश्न
    दिवाली सा

    ReplyDelete
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (13-12-2013) को (मोटे अनाज हमेशा अच्छे) चर्चा मंच-1123 पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  7. सुन्दर प्रस्तुति |
    बढ़िया विषय |
    शुभकामनायें आदरेया ||

    ReplyDelete
  8. "जब महलों में दिया जलता है
    तभी होती है इन झोपड़ियों में रोशनी ...."


    ReplyDelete
  9. ek ktu sch vya karati rachana

    ReplyDelete
  10. aapne sahi likha kyonki unki kushi ko sirph ve hi mahsus kar sakte hain........

    ReplyDelete
  11. हकीकत तो यही है. सशक्त अभिव्यक्ति.

    रामराम.

    ReplyDelete
  12. सुन्दर रचना. महलें की "रौशनी" की वजह और महलें ही घोर अधकार की भी. कड़वा सच.

    ReplyDelete
  13. बहुत ही बढ़िया

    सादर

    ReplyDelete
  14. समाज में पल रही विषमता को रेखांकित करती रचना -साधु!

    ReplyDelete
  15. मार्मिक अभिव्यक्ति, सुंदर प्रस्तुति.


    लोहड़ी, मकर संक्रांति और माघ बिहू की शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  16. समाज की विडंबना है झोंपड़े में दिए महलों की रोशन होने पे ही होते हैं ...
    प्रभावी लिखा है बहुत ...

    ReplyDelete
  17. गरीब की ख़ुशी का आपने सुन्दर नक्षा खींचा है। काश की गरीबों को ऐसी खुशियाँ रोज मिलती रहें।

    ReplyDelete
  18. कड़वा सच।

    --
    थर्टीन रेज़ोल्युशंस

    ReplyDelete
  19. शायद जब महलों में दिया जलता है
    तभी होती है इन झोपड़ियों में रोशनी ....

    मार्मिक अभिव्यक्ति ....
    मकरसंक्रांति की शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  20. बहुत खुबसूरत भावों की लडियां

    ReplyDelete
  21. दिल को छू लेने वाली अभिवयक्ति | अक्सर इनके साथ ऐसा होते देखा है |

    Hindi Tips : आप भी दिखाएं Stroked Text Effect अपने ब्लॉग पर बिना फोटोशाप के |

    ReplyDelete
  22. मार्मिक रचना ...लोहिड़ी व मकर संक्रांति पर्व की ढेरों शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  23. महलों के दिये तो रोज ही रोशन हैं । कभी कभी ईश्वर झोपडों पर भी मेहेरबान हो जाता है ।
    सुंदर भावस्पर्शी रचना ।

    ReplyDelete
  24. मार्मिक किन्तु सत्य।

    ReplyDelete
  25. शायद जब महलों में दिया जलता है
    तभी होती है इन झोपड़ियों में रोशनी ....

    ...कटु सत्य...काश हर झोंपड़ी अपने दिये से रोशन होती...बहुत प्रभावी रचना..

    ReplyDelete
  26. बहुत सही कहती कहानी रीना जी |मकर संक्रांति पर आपको भी हार्दिक शुभकामनाएं |
    आशा

    ReplyDelete
  27. वाह !सुंदर पंक्तियाँ
    शायद जब महलों में दिया जलता है
    तभी होती है इन झोपड़ियों में रोशनी ..

    ReplyDelete
  28. जिंदगी का एक कड़वा सच

    ReplyDelete
  29. बहुत मार्मिक प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  30. मन को छूती पोस्‍ट ... हकीकत बयां करती हुई

    ReplyDelete
  31. bahut sundar Rachna...
    http://ehsaasmere.blogspot.in/

    ReplyDelete
  32. बहुत ही अच्छी लेखनी बहुत ही सुन्दर कविता |रीना जी आभार

    ReplyDelete
  33. बहुत सुन्दर कविता लिखी आपने...मार्मिक प्रस्तुति

    ReplyDelete
  34. शुक्रिया आपकी सद्य टिपण्णी का .मार्मिक प्रासंगिक .

    ReplyDelete
  35. मार्मिक प्रस्तुति कड़वा सच
    थोड़ी ही दूर अगले मोड़ पर एक दावत थी..
    सेठ जी के पोते का मुंडन था...
    शायद वहां के सेठ-या सेठानी
    इनपर मेहरबान हुए होंगे
    तभी तो आज यहाँ भी जश्न का माहौल है...
    शायद जब महलों में दिया जलता है
    तभी होती है इन झोपड़ियों में रोशनी ....

    ReplyDelete
  36. वाकई..
    मंगलकामनाएं !

    ReplyDelete
  37. Badhiya chitran aur ant tak ek sachhayi bya karti hui badhiya post...

    ReplyDelete
  38. आपकी इस रचना को कविता मंच पर साँझा किया गया है

    संजय भास्कर
    कविता मंच
    http://kavita-manch.blogspot.in

    ReplyDelete

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...