फ़ॉलोअर

सोमवार, 26 सितंबर 2011

kuch Kaho कुछ कहो


कुछ कहो तब ना जानुंगी 
अपनी गलती कैसे मानुंगी 
खता हमारी ही है,
या बस ऐसे ही ,
इन दुरियो कि हकीकत को मै कैसे पह्चानुंगी |
कुछ कहो तब ना जानुंगी ........

10 टिप्‍पणियां:





  1. रीनाजी
    बहुत ख़ूबसूरत ख़यालात हैं …
    दूरियों की हक़ीक़त मन से पहचानी जाती है … :)


    आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व की बधाई और
    शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    जवाब देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...