फ़ॉलोअर

गुरुवार, 25 अगस्त 2011

Haar na maan हार ना मान

हार ना मान,  हार ना मान
जीवन की राह है बड़ी आसान 
थोडा सब्र और थोड़ी साहस 
थोड़ी परेशानी और थोड़ी कठिनाई 
फिर ढेर सारी मुस्कान 

हार ना मान,  हार ना मान
जीवन की राह है बड़ी आसान 
मंजिल को पाने की इक्क्षा 
और मन में हो आत्मविश्वास 
जीवन का तो नियम यही है
आज है खाली तो कल धन की खान 

हार ना मान,  हार ना मान
जीवन की राह है बड़ी आसान
साथी दुःख से क्यों घबराता है
हर साहसी अपनी मंजिल को पाता है
सफल निश्चय का दे तू साथ
जीवन की राह को कर आसान


हार ना मान,  हार ना मान
जीवन की राह है बड़ी आसान




9 टिप्‍पणियां:

  1. हार ना मान, हार ना मान
    जीवन की राह है बड़ी आसान
    थोडा सब्र और थोड़ी साहस
    थोड़ी परेशानी और थोड़ी कठिनाई
    फिर ढेर सारी मुस्कान
    bahut hi sundar hai

    जवाब देंहटाएं
  2. कल 13/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर वाह!
    हार्दिक बधाई..

    जवाब देंहटाएं
  4. मुझे ऐसी ही कवितायेँ ज्यादा पसंद हैं , बहुत अच्छी रचना |
    मेरी ही लिखी हुई चार पंक्तियाँ हैं -
    हौंसलों के धुंधले निशान अभी बाकी हैं ,
    उम्मीदों के दरकते कुछ मकान अभी बाकी हैं ,
    ढलान अभी बाकी है , रास्तो में बेशक
    छूने को सातों आसमान अभी बाकी हैं |

    आकाश

    जवाब देंहटाएं

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...